माँ बहन संग चूत चुदाई -1- Maa-Beta Ke Beech Chudai Ki Kahaniyan

007

Rare Desi.com Administrator
Staff member
Joined
Aug 28, 2013
Messages
68,487
Reaction score
484
Points
113
Age
37
//tssensor.ru हैलो दोस्तो.. आज मैं बड़े ही सोचने-विचारने के बाद लिख रहा हूँ। हो सकता है कि किसी को मेरी कहानी पाप से परिपूर्ण लगे पर जो भी वास्तव में हुआ है.. वो मैं आपके सामने कहानी के रूप में लिख रहा हूँ।

मेरे घर में मैं, मेरी माँ, मेरी पत्नी और मेरी बहन है। मेरी बहन की शादी हो चुकी है और वो अपने ससुराल में रहती है। मैं अपनी माँ और पत्नी के साथ यहाँ हैदराबाद में रहता हूँ।

मेरी उम्र 28 साल की है मेरी लंबाई 5'7" की है और मेरी पत्नी 24 की है.. मेरी सास और मेरी साली अभी भी बनारस के पास एक गाँव में रहते हैं और वे लाग साल में 2-3 महीने हमारे यहाँ बिताती हैं। सच पूछो तो दोस्तों.. मेरा घर एक जन्नत है.. जहाँ किसी भी तरह की कोई मनाही नहीं है।

मैं आपको शुरू से ही ये सारी बातें बताता हूँ।
ये बातें मेरे बचपन की हैं.. घर पर मेरी माँ, मेरी दीदी और मैं सब साथ रहते थे। मेरी उम्र करीब 18-19 के आस-पास थी.. मेरी दीदी की उम्र 22 साल की थी.. उसकी स्पोर्ट्स में रूचि थी और वो स्टेडियम जाती थी।
मेरी माँ टीचर है.. उसकी उम्र 37-38 की होगी.. मगर देखने में किसी भी हालत में 31-32 से ज्यादा की नहीं लगती थी, माँ और दीदी एकदम गोरी हैं, माँ मोटी तो नहीं.. लेकिन भरे हुए शरीर वाली थीं और उनके चूतड़ चलने पर हिलते थे।
उनकी शादी बहुत जल्दी हो गई थी। मेरी माँ बहुत ही सुंदर और हँसमुख है.. वो जिंदगी का हर मज़ा लेने में विश्वास रखती हैं।
हालाँकि वो सबसे नहीं खुलती हैं.. पर मैंने उसे कभी किसी बात पर गुस्साते हुए नहीं देखा है।

जब मैं पढ़ता था और हर चीज को जानने के बारे में मेरी जिज्ञासा बढ़ रही थी.. ख़ासतौर से सेक्स के बारे में.. मेरे दोस्त अक्सर लड़की पटा कर मस्त रहते थे, उन्हीं में से दो-तीन दोस्तों ने अपने परिवार के साथ सेक्स की बातें भी बताईं.. तो मुझे बड़ा अज़ीब लगा।

मैंने माँ को कभी उस नज़र से नहीं देखा था.. पर इन सब बातों को सुन-सुन कर मेरे मन में भी जिज्ञासा बढ़ने लगी और मैं अपनी माँ को ध्यान से देखने लगा।
चूँकि गर्मियों की छुट्टियाँ चल रही थीं और मैं हमेशा घर पर ही रहता था।
घर में मैं माँ के साथ ही सोता था और दीदी अपने कमरे में सोती थीं। माँ मुझे बहुत प्यार करती थीं। माँ, दीदी और मैं आपस में थोड़ा खुले हुए थे.. हालाँकि सेक्स एंजाय करने की कोई बात तो नहीं होती थी.. पर माँ कभी किसी चीज का बुरा नहीं मानती थीं और बड़े प्यार से मुझे और दीदी को कोई भी बात समझाती थीं।

कई बार अक्सर उत्तेजना की वजह से जब मेरा लंड खड़ा हो जाता था और माँ की नज़र उस पर पड़ जाती.. तो मुझे देख कर धीरे से मुस्कुरा देतीं और मेरे लंड की तरफ इशारा करके पूछतीं- कोई परेशानी तो नहीं है?
मैं कहता- नहीं..
तो वो कहतीं- पक्का.. कोई बात नहीं?

मैं भी मुस्कुरा देता.. वो खुद कभी-कभी हम दोनों के सामने बिना शरमाए एक पैर पलंग पर रख कर साड़ी थोड़ा उठा देतीं और अन्दर हाथ डाल कर अपनी बुर खुजलाने लगतीं।

नहाते समय या हमारे सामने कपड़े बदलते वक़्त.. अगर उसका नंगा बदन दिखाई दे रहा हो.. तो भी कभी भी शरीर को ढकने या छुपाने की ज़्यादा कोशिश नहीं की।

ऐसा नहीं था कि वो जानबूझ कर दिखाने की कोशिश करती हों.. क्योंकि इन सब बातों के बाद भी मैंने उसकी या दीदी की नंगी बुर नहीं देखी थी। बस वो हमेशा हमें नॉर्मल रहने को कहतीं और खुद भी वैसे ही रहती थीं।
धीरे-धीरे मैं माँ के और करीब आने की कोशिश करने लगा और हिम्मत करके माँ से उस वक़्त सटने की कोशिश करता.. जब मेरे लंड खड़ा होता।
मेरा खड़ा लंड कई बार माँ के बदन से टच होता.. पर माँ कुछ नहीं बोलती थीं।

इसी तरह एक बार माँ रसोई में काम कर रही थीं और माँ के हिलते हुए चूतड़ देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया। मैंने ने अपनी किस्मत आज़माने की सोची और भूख लगने का बहाना करते हुए रसोई में पहुँच गया।

मैं माँ से बोला- माँ भूख लगी है.. कुछ खाने को दो।
यह कहते हुए माँ से पीछे से चिपक गया.. मेरा लंड उस समय पूरा खड़ा था और मैंने अपनी कमर पूरी तरह माँ के चूतड़ों से सटा रखी थी.. जिसके कारण मेरा लंड माँ के चूतड़ों के बीच थोड़ा सा घुस गया था।

माँ हँसते हुए बोलीं- क्या बात है आज तो मेरे बेटे को बहुत भूख लगी है।
'हाँ माँ.. बहुत ज्यादा.. जल्दी से मुझे कुछ दो.'

मैंने माँ को और ज़ोर से पीछे से पकड़ लिया और उनके पेट पर अपने हाथों को कस कर दबा दिया। कस कर दबाने की वज़ह से माँ ने अपने चूतड़ थोड़ी पीछे की तरफ किए.. जिससे मेरा लंड थोड़ा और माँ के चूतड़ों के बीच में घुस गया। उत्तेजना की वज़ह से मेरा लंड झटके लेने लगा.. पर मैं वैसे ही चिपका रहा और माँ ने हँसते हुए मेरी तरफ देखा.. पर बोलीं कुछ नहीं.

फिर माँ ने जल्दी से मेरा खाना लगाया और थाली हाथ में लेकर बरामदे में आ गईं।
मैं भी उसके पीछे-पीछे आ गया.. खाना खाते हुए मैंने देखा.. माँ मुझे और मेरे लंड को देख कर धीरे-धीरे हँस रही थीं।
जब मैंने खाना खा लिया तो माँ बोलीं- अब तू जाकर आराम कर.. मैं काम कर के आती हूँ।

पर मुझे आराम कहाँ था.. मैं तो कमरे में आ कर आगे का प्लान बनाने लगा कि कैसे माँ को चोदा जाए.. क्योंकि आज की घटना के बाद मुझे पूरा विश्वास था कि अगर मैं कुछ करता भी हूँ.. तो माँ अगर मेरा साथ नहीं देगीं.. तो भी कम से कम नाराज़ नहीं होंगी।

फिर यही हरकत मैंने 5-6 बार की और माँ कुछ नहीं बोलीं.. तो मेरी हिम्मत बढ़ गई।

एक रात खाना खाने के बाद मैं कमरे में आकर लाइट ऑफ करके सोने का नाटक करने लगा.. थोड़ी देर बाद माँ आईं और मुझे सोता हुआ देख कर थोड़ी देर कमरे में कपड़े और सामान ठीक किया और फिर मेरे बगल में आकर सो गईं।

करीब एक घंटे के बाद जब मुझे विश्वास हो गया कि माँ अब सो गई होगीं.. तो मैं धीरे से माँ की ओर सरक गया और धीमे-धीमे अपना हाथ माँ के चूतड़ों पर रख कर माँ को देखने लगा।
जब माँ ने कोई हरकत नहीं की.. तो मैं उनके चूतड़ों को सहलाने लगा और उनकी साड़ी के ऊपर से ही दोनों चूतड़ों और गाण्ड को हाथ से धीमे-धीमे दबाने लगा। जब उसके बाद भी माँ ने कोई हरकत नहीं की तो मेरी हिम्मत थोड़ा और बढ़ी और मैंने माँ की साड़ी को हल्के हल्के ऊपर खींचना शुरू किया।

साड़ी ऊपर करते-करते जब साड़ी चूतड़ों तक पहुँच गई.. तो मैंने अपना हाथ माँ के चूतड़ों और गाण्ड के ऊपर रख कर.. थोड़ी देर माँ को देखने लगा.. पर माँ ने कोई हरकत नहीं की। फिर मैं अपना हाथ उनकी गाण्ड के छेद से धीरे-धीरे आगे की ओर करने लगा, पर माँ की दोनों जाँघें आपस में सटी हुई थीं.. जिससे मैं उन्हें खोल नहीं पा रहा था।

फिर मैंने अपनी दो ऊँगलियाँ आगे की ओर बढ़ाईं तो मेरी साँस ही रुक गई।
मेरी ऊँगलियाँ माँ की बुर के ऊपर पहुँच गई थीं। फिर मैं धीरे-धीरे अपनी ऊँगलियों से माँ की बुर सहलाने लगा.. माँ की बुर पर बाल महसूस हो रहे थे।

चूँकि मेरे लंड पर भी झांटें थीं तो मैं समझ गया कि ये माँ की झांटें हैं। इतनी हरकत के बाद भी माँ कुछ नहीं कर रही थीं.. तो मैंने धीरे से अपनी पूरी हथेली माँ की बुर पर रख दी और बुर के दोनों होंठों को एक-एक कर के छूने लगा.. तभी मुझे महसूस हुआ कि माँ की बुर से कुछ मुलायम सा चमड़े का टुकड़ा लटक रहा है।

जब मैंने उसे हल्के से खींचा तो पता चला कि वो माँ की बुर की पूरी लम्बाई के बराबर यानि ऊपर से नीचे तक की लंबाई में बाहर की तरफ निकला हुआ था और जबरदस्त मुलायम था।

उस समय मेरा लंड इतना टाइट हो गया था कि लगा जैसे फट जाएगा.. मैं धीरे से उठ कर बैठ गया और अपनी पैन्ट उतार कर लंड को माँ के चूतड़ से सटाने की कोशिश करने लगा. पर कर नहीं पाया। तो मैं एक हाथ से माँ की बुर में ऊँगली डाल कर बाहर निकले चमड़े को सहलाता रहा और दूसरे हाथ से मुठ मारने लगा.. 2-3 मिनट में ही मैं झड़ गया।

पर जब तक मैं अपना गाढ़ा जूस रोक पाता.. वो माँ के चूतड़ों पर पूरा गिर चुका था। ये देख कर मैं बहुत डर गया और चुपचाप पैन्ट पहन कर.. माँ को वैसा ही छोड़ कर सो गया।

इस कहानी के बारे में अपने विचारों से अवगत कराने के लिए मुझे जरूर लिखें।
कहानी जारी है।
 

Users Who Are Viewing This Thread (Users: 0, Guests: 0)


Online porn video at mobile phone


மாமாவை ஒத்த அக்காবউ এর গ্রুপ চোদা খাওয়ার সখtelugu thread bootu kathaluபுதுபுண்டைyen manaivi naanum nanbanum olu kathaigalஅம்மா குடிசையில் பால் வேனும் காமக்கதைఅక్క పడుకున్నాక బావతోऑफिस मध्ये झवले कथाতাড়াতাড়ি ভোদাটা ফেটে গেল গোதங்கச்சி புண்டைলিঙ্গ কতখানি ঢুকালে বউ মজা পাবেIndia me dikhanewali sex wapsaidteacher chee poruki naya kama kadhaiগুদে ধোন ঢুকায়ে বাথরুমে নিয়ে গেলাম'ப்ரா செக்ஸ் காமக்கதைथूक लगाकर चुदाईমায়ের পরকিয়া চটিತುಲ್ಲುಗಳು ಕೆಯ್ದು ಕಾಮபாஸ்மார்க் sex storymami pundai teluguमामी ने टॉवल में हाथ डालाகாலேச் தமிழ் XXXಮಿಡೆಲ್ age xxxसरहज को चोदा नंदोई ने सुहागरातகணவரின் பதவி உயர்வுக்கு பரிசுଦୁଧ ଖାଉଥିଲି ଆଉతెలుగు అత్తలు సెక్స్ స్టోరీస్পোঁদ মারার ব্যথাঅসমীয়া চুদন খোৱাৰ অভিজ্ঞতাৰ কাহিনীचुद्दी चुदाई உன் பொண்டாட்டிய ஓக்கனுமாம்తెలుగు అమ్మ కోడుకుల బుతు కథలుఅమ్మ బ్రా తముడుdocter ഫക്ക്मामाच्या सील तोडले sex story ಬಾರೋ ನನ್ ತುಲ್ಲು ರಸমা কে চোদাচ্ছিஅக்கா பரங்கி சூத்துபிக் பாமிலி ஸ்டோரி ஓல் குடும்பம் காமகதைகள்মাল ঢাল মাংগে চুদে বাবাXXX തുണി അലക്ക്akka vai okum mmsmorattu Tamilkamakathaikalநிலாவினி தமிழ் காமகதைகள்நண்பனின் காதலி கட்டிலில் full storybhaujji bur pelai raatசாந்தி தந்த பால்பருவமடையாத சிறுமி காம கதைtelugusexstories.website/%E0%B0%A4%E0%B0%A8%E0%B0%A8%E0%B0%BF-%E0%B0%AE%E0%B0%BE-%E0%B0%86%E0%B0%AF%E0%B0%A8-%E0%B0%AA%E0%B0%95%E0%B1%8D%E0%B0%95%E0%B0%B2%E0%B1%8B-%E0%B0%AA%E0%B0%A1%E0%B1%81%E0%B0%95%E0%B1%8B%E0%B0%ACধোনের মাল খাওয়ার চুদার চটিભાભી ના ભાઈ ગુજરાતી ચોદ કથાઓஆசைக்கு அக்கா அவசரத்துக்கு அண்ணி செக்ஸ்ছাএই গুদ চটি দশম শ্রেনীJab pati nahi laute pardes se tab Jethne sex kahani மகள் காமக் கதைবাংলা চটি গল্প মেসোপোদ চুদে রক্ত বের করলামsunny ଲେଓନେ xxx videosex story ಕನ್ನಡ ಟೀಚರ್ ಸೇರಿபுன்டைभाई सेक्स कहानी के बाद तो बहन पैंटी सूंघనేను నా ముద్దుల మొగుడు తెలుగు సెక్స్ కథWATCH online brazzers double-d-tention mkvகாமக்கதை ராதிகா அண்ணிबायकोची पुची नोकराने झवलीఅమ్మే , నువ్వు డేంజరు వదిలేస్తే ఇప్పుడే శోభనం చేసే టట్టు వున్నావుভিনদেউ চুদা গল্প சுகத்துக்கு தேவிடியா ஆனேன் Tamil sex storyতুই আমাকে সারা জীবন চুদবি।चड्डी काढून बेडवर चोकत होती ভাগনিকে চোদলাম যেভাবে